Saturday, November 29

ऐसा था hotel Taj !

Taj logo
58 घंटे तक शर्मनाक और दरिंदगी भरी आतंककारी गतिविधियों को अपने सीने पर झेलने वाले होटल ताज के आंसू भी आम देशवासी की तरह ही नहीं थम रहे हैं। भले ही उसे आतंककारियों से मुक्त करा लिया गया हो, लेकिन वह अब भी खून के आंसू रो रहा है। आज सुबह टेलीविजन पर जब उसके ग्राउंड और फर्स्ट फ्लोर की नौ-दस खिड़कियों से आग की लपटें उठती देखीं तो कौतुहल जगा कि आखिर यह होटल अंदर से कैसा दिखता होगा। इंटरनेट पर खंगाला को होटल ताज की वेबसाइट पर इसके वर्चुअल टुअर (वीडियो) की सुविधा दिखी।

वीडियो देखा तो लगा कि मैं इस होटल के अंदर ही खड़ा हूं। आप भी देखिए कि यह होटल अंदर से कैसा दिखता था (पता नहीं अभी कैसा होगा??), इस उम्मीद के साथ कि यह होटल जल्द ही अपनी पुरानी शान पा लेगा और दुनिया को दिखा देगा कि लाख चाहकर भी आतंककारी इसका सिर एक इंच भी नहीं झुका पाए हैं।

ताज होटल की शान का वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें-

virtual tour of Taj

यहां पर आप इस होटल के रेस्टोरेंट, बार, सुइट, रूम्स, बाथरूम आदि सभी सुविधाओं को देख सकते हैं।

काश पिछले 59 घंटों को हिंदुस्तान के इतिहास से मिटा दिया जा सकता!!!!!

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Thursday, November 27

ब्लॉग पर traffic बढ़ाएं-2

इस सिरीज की पिछली कड़ी में आपको अपने ब्लॉग पर पाठकों की हलचल बढ़ाने के चार तरीके सुझाए गए थे। अगर आपने वह पोस्ट नहीं पढ़ी है तो यहां देखिए। इसके बाद आपके लिए प्रस्तुत है, तरीका नं. 5 और 6..

5. अपने ब्लॉग रोल में अच्छे ब्लॉग्स को जगह दें

blog list ब्लॉग पर ब्लॉग रोल काफी अहम चीज है। साइडबार में उन ब्लॉग्स की लिस्ट, जिन्हें आप रोजाना पढ़ते हैं और उनकी हर हलचल से खुद को और अपने पाठकों को वाकिफ रखना चाहते हैं। कई बार आपके ब्लॉग पर कुछ पाठक सिर्फ इसलिए भी आ सकते हैं, क्योंकि उन्हें आपकी ब्लॉग लिस्ट पसंद है। साथ ही अगर कोई ब्लॉग आपकी लिस्ट में है तो काफी संभावनाएं हैं कि उस ब्लॉग की लिस्ट में भी आपका नाम शामिल हो। तो पाठक पाने का यह तरीका भी तो अपनाइए (वैसे हिन्दी ब्लॉग टिप्स फिलहाल इस सुविधा का इस्तेमाल नहीं कर रहा है)। ब्लॉग लिस्ट जोड़ने का तरीका इस पोस्ट में है- पसंदीदा चिट्ठों की ब्लॉग लिस्ट बनाएं (Video Tutorial)

6. अच्छे ब्लॉग्स के फोलोअर बनें

followersअच्छे ब्लॉग्स के फोलोअर बनने से न केवल आप उनकी अपडेट्स अपने डेशबोर्ड में पा सकते हैं, बल्कि आप उनकी साइडबार में अहम स्थान भी पा सकते हैं। मिसाल देखिए- फिलहाल हिन्दी ब्लॉग टिप्स की फोलोअर लिस्ट में 77 पाठक हैं। आपको अंतिम 18 की तस्वीरें यहां दिख रही होगी (शेष को भी आसानी से देखा जा सकता है)। अब हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर आने वाला पाठक इनके प्रोफाइल पर भी क्लिक कर सकता है। उनके ब्लॉग पर जा सकता है। तो है न समझदारी अच्छे ब्लॉग्स का फोलोअर बनने में। फोलोअर बनने का तरीका इस पोस्ट में है- आपके ब्लॉग के Followers (प्रशंसक)

क्रमशः

ब्लॉग पर ट्रेफिक बढ़ाएं-3
ब्लॉग पर ट्रेफिक बढ़ाएं-4
ब्लॉग पर ट्रेफिक बढ़ाएं-5


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Tuesday, November 25

ब्लॉग पर ट्रेफिक बढ़ाएं-1

कई साथियों के सुझाव पर हिन्दी ब्लॉग टिप्स एक नई सिरीज शुरू कर रहा है- ब्लॉग पर ट्रेफिक कैसे बढ़ाएं। यह सिरीज आपको मेरे अनुभव पर आधारित व्यावहारिक तरीकों का ही सुझाव देगी। यह उन लोगों के लिए तो खास तौर पर उपयोगी है, जिन्होंने ब्लॉग तो बना लिया है, लेकिन उस पर पाठक नहीं आ रहे हैं। तो क्या आप तैयार हैं इस सिरीज के साथ चलने के लिए।

1. अच्छी सामग्री के साथ नियमित लिखें-

आप कहेंगे कि इसमें नया क्या है? यह तो सभी को पता है। लेकिन इसका जिक्र मैं यहां इसलिए कर रहा हूं, क्योंकि ब्लॉग पर किसी विजिटर को एक बार तो किसी भी तरीके से लाया जा सकता है, लेकिन उसे बार-बार लाने के लिए आपको अच्छी सामग्री नियमित रूप से पेश करनी होगी। इस विषय पर अब ज्यादा भाषण नहीं दूंगा। सीधे आइए व्यावहारिक तरीकों पर।

2. हिन्दी संकलकों से जुड़ें

हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर आधे से ज्यादा ब्लॉगर्स चिट्ठाजगत, ब्लॉगवाणी और नारद जैसे हिन्दी संकलकों के माध्यम से ही पहुंचते हैं। और दूसरे ब्लॉग्स पर तो यह आंकड़ा 80 फीसदी से ज्यादा है। तो आप समझ ही गए होंगे हिन्दी संकलकों की महत्ता। क्या आपने चैक किया कि आपका ब्लॉग सभी संकलकों पर मौजूद है या नहीं। अगर नहीं है तो आप पांच मिनट से भी कम समय में सभी संकलकों में अपना नाम जोड़ सकते हैं। सभी संकलकों में नाम जोड़ने का आसाना तरीका इस पोस्ट में है- ब्लॉग को हिन्दी संकलकों से जोड़ें

3. प्रमुख सर्च इंजनों से जुड़ें

इंटरनेट पर यूनीकोड के तेजी से विकास के दौर में अब गूगल और याहू जैसे सर्च इंजन भी ब्लॉग्स पर पाठक को तेजी से पहुंचाने लगे हैं। अगर कोई भी पाठक आपके ब्लॉग के टाइटल या यूआरएल को सर्च करे तो वह सबसे ऊपर के नतीजों में शुमार होना चाहिए। ऐसा नहीं है? इसका मतलब आपका ब्लॉग इन सर्च इंजनों में शुमार ही नहीं है। पांच मिनट से भी कम समय में इन्हें प्रमुख सर्च इंजनों में शामिल करने का तरीका सीखिए इस पोस्ट में- सर्च इंजन में ब्लॉग नहीं

4. ई-मेल सब्सक्रिप्शन टूल लगाएं

हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर फिलहाल 75 पाठक ऐसे हैं, जिनके ई-मेल इनबॉक्स में इसकी नई पोस्ट स्वतः ही पहुंच जाती है। ये कहलाते हैं loyal readers और किसी ब्लॉग के लिए यह सबसे बड़ी ताकत है। पाठक आपके ब्लॉग को सब्स्क्राइब इसी वजह से करते हैं, जिससे हर नई पोस्ट उनके ई-मेल पते में आ जाए और वे कहीं उससे वंचित न रह जाए। कई पाठक आपके ब्लॉग को भी पसंद करते हैं और अपने मेल पते में उसे पाना चाहते हैं। इसलिए आप फीडबर्नर ई-मेल सब्सक्रिप्शन फार्म को अपने ब्लॉग के साथ जरूर जोड़ें। इसमें भी बस पांच मिनट लगेंगे। तरीका इस पोस्ट में है- फीडबर्नर सब्सक्रिप्शन टूल लगाएं

क्रमशः

ब्लॉग पर ट्रेफिक बढ़ाएं-2
ब्लॉग पर ट्रेफिक बढ़ाएं-3
ब्लॉग पर ट्रेफिक बढ़ाएं-4
ब्लॉग पर ट्रेफिक बढ़ाएं-5


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Saturday, November 22

ब्लॉग का पासपोर्ट साइज फोटो


जैसे आप अपनी पहचान के लिए पासपोर्ट साइज का फोटो काम में लेते हैं, उसी तरह ब्लॉग का भी फोटो खिंच जाए तो कितना अच्छा होगा? इसे snapshot कहा जाता है। हिन्दी ब्लॉग टिप्स की पासपोर्ट साइज की फोटो आप यहां देख सकते हैं। यह मैंने बस एक बटन पर क्लिक कर बनाया है। आप भी अपने ब्लॉग या किसी दूसरे ब्लॉग (या वेबसाइट) का इसी तरह का स्नेपशॉट बना सकते हैं,ताकि अपनी पोस्ट में उनके संदर्भ के साथ उनकी छोटी सी तस्वीर भी डाल सकें। इसके बाद इसे सेव कर किसी भी रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं (साभारः वेबस्नेपर डॉट कॉम)। क्या आप इस विजेट को देखना चाहते हैं?




यहां बक्से में किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट का पता भरिए। और उसके बाद क्लिक कर दीजिए (अगर आपने पॉप-अप विंडो ब्लॉक की हैं तो कृपया उसे चालू कर दीजिए)।

नोटः- अगर आपको यह संदेश दिख रहा है- Thumbnail has been queued .. तो उस पेज को एक या दो बार रिफ्रेश कर लीजिए। थोड़ी ही देर में थंबनेल या स्नेपशॉट आपके सामने होगा।

उम्मीद है कि यह विजेट आपको पसंद आया होगा। अगर आप इसे अपने ब्लॉग की साइडबार में लगाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कीजिए।


अगर किसी ब्लॉग (वर्डप्रेस या अन्य) के लिए यह बटन काम नहीं कर रहा तो आप नीचे दिए गए कोड को सीधे ही काम ले सकते हैं-

<iframe scrolling="no" frameborder="0" width="100%" src="http://blogsnapr.blogspot.com/" height="110 px"></iframe>


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Friday, November 21

सबसे आसान Dictionary

अब आपको हिन्दी शब्द का अंग्रेजी अर्थ और अंग्रेजी शब्द का हिन्दी अर्थ जानने के लिए न तो डिक्शनरी की जरूरत पड़ेगी और न ही किसी शब्दकोश की। बस अपने ब्लॉग की साइडबार में छोटा सा बक्सा लगा लीजिए और यह सीधे ही आपको अंग्रेजी शब्दों के हिन्दी अर्थ और हिन्दी शब्दों के अंग्रेजी अर्थ दे देगा (साभारः शब्दकोश डॉट कॉम)। इस बक्से यानी विजेट को हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने कई साथियों की मांग पर तैयार किया है। इसे लगाना काफी आसान है। हमेशा की तरह इस बार भी एक बटन है और इसे क्लिक कर आप यह विजेट सीधे अपने ब्लॉग तक ले जा सकते हैं। क्या आप इसे अपने ब्लॉग पर लगाना चाहते हैं?

पहले इसका नमूना तो देख लीजिए- (ई-मेल या फीड रीडर से पोस्ट पढ़ने वाले कृपया मूल पोस्ट पर आएं)



अंग्रेजी शब्द का हिन्दी अर्थ पाने के लिए आप इस बक्से में अंग्रेजी शब्द टाइप करने के बाद एंटर दबा दीजिए। एक नई विंडो में आपको हिन्दी अर्थ मिलेंगे (पॉप-अप ब्लॉक करने वाले साथी कृपया उसे चालू कर लें)।

अगर आप किसी हिन्दी शब्द का अंग्रेजी समानार्थी चाहते हैं तो हिन्दी में लिखने वाले किसी भी टूल की मदद से हिन्दी शब्द लिखिए, उसे इस बक्से में पेस्ट कर दीजिए और एंटर दबाते ही आपको वांछित शब्द मिल जाएंगे।

अब अगर आप इसे अपने ब्लॉग की साइडबार में लगाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें। ब्लॉगर अकाउंट लॉग-इन कीजिए और उसके बाद विजेट आपका।


अगर किसी ब्लॉग (वर्डप्रेस या अन्य) के लिए यह बटन काम नहीं कर रहा तो आप नीचे दिए गए कोड को सीधे ही काम ले सकते हैं-

<iframe scrolling="no" frameborder="0" width="100%" src="http://wordkosh.blogspot.com/" height="110 px"></iframe>


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

बेईमान नहीं है चिट्ठाजगत

हाल ही हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर क्या चिट्ठाजगत बेईमान है? शीर्षक के साथ पोस्ट प्रकाशित की गई थी। इसमें चिट्ठाजगत के रेंकिंग सिस्टम में हिन्दी ब्लॉग टिप्स के साथ हुए पक्षपात को उजागर किया गया था। इस मामले में चिट्ठाजगत ने त्वरित कार्रवाई की और उस तकनीकी खामी का पता लगाया, जिसके चलते ऐसा हुआ था। इस खामी के दूर होने के बाद हिन्दी ब्लॉग टिप्स की रेंक 113 से उछलकर 58 हो गई है। चिट्ठाजगत सेवा दल को इस त्वरित सुनवाई और सहयोग के लिए धन्यवाद..

चिट्ठाजगत अन्य हिन्दी संकलकों के मुकाबले ज्यादा संप्रेषणीय और तथ्यात्मक सूचनाएं उपलब्ध कराता है। इसका तंत्र भी काफी अच्छा है, लेकिन इसमें कुछ तकनीकी खामियां अब भी मौजूद हैं। इस पोस्ट के माध्यम से मैं चिट्ठाजगत सेवा दल का ध्यान इन खामियों की ओर दिला रहा हूं, जिससे वे इन्हें सुधारकर चिट्ठाजगत को और प्रभावी बना सकें।

चिट्ठाजगत अभी तक यह मानता है कि एक नाम का केवल एक ही ब्लॉगर हो सकता है। मसलन अगर आशीष नाम के दो या दो से ज्यादा ब्लॉगर हैं तो वह आशीष की प्रविष्ठियों में सभी ब्लॉगर्स की प्रविष्ठियां दिखा देता है। नमूना इस पेज पर देखिए- चिट्ठाकार "आशीष" द्वारा प्रविष्टियाँ (इस पेज पर हिन्दी ब्लॉग टिप्स और बूझो मेरे ब्लॉग हैं, जबकि बोल हल्ला, जिंदगी और मेरे अनुभव और एक अधूरी दास्तान आशीष महर्षि जी के हैं)। इस पेज पर आने वाला पाठक यही सोचता है कि ये सभी ब्लॉग एक ही ब्लॉगर के हैं।

इसमें एक और परेशानी यह है कि अगर किसी ब्लॉगर ने प्रोफाइल में मौजूद अपने नाम में जरा भी फेरबदल कर लिया, तो फेरबदल वाले नाम के साथ नया पेज बनेगा। यानी पिछले नाम के साथ लिखी गई पोस्ट उस पेज पर नहीं दिखेगी। नमूना देखिए- मैंने 10 जुलाई को प्रोफाइल में अपना नाम आशीष से बदलकर आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) कर लिया। आपको चिट्ठाकार "आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)" द्वारा प्रविष्टियाँ पेज में उससे पहले की हिन्दी ब्लॉग टिप्स की प्रविष्ठियां नजर नहीं आएंगी। अगर आपने नाम में रोमन और देवनागरी लिपि में भी बदलाव किया तो चिट्ठाजगत उसे नहीं पहचानता।

चिट्ठाजगत की एक और तकनीकी खामी यह है कि अगर किसी चिट्ठाकार ने अपनी पोस्ट में वीडियो का इस्तेमाल किया है, तो चिट्ठाजगत के नमूने में वह वीडियो उस पोस्ट के साथ तो दिखेगा ही, साथ ही उससे नीचे वाली सभी पोस्ट में भी वह वीडियो नजर आता रहेगा, भले ही वह उन पोस्ट में शुमार ही नहीं हो। नमूना इस चित्र में देखिए। एक ही वीडियो सभी पोस्ट के साथ नजर आ रहा है। यह चित्र चिट्ठाकार "आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)" द्वारा प्रविष्टियाँ पेज से ही लिया गया है।




उम्मीद है कि चिट्ठाजगत जल्द ही इन कमियों को दूर करेगा।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Thursday, November 20

टिप्पणियों को सजाइए (टिप्पणी में लिंक)

कई बार किसी पोस्ट पर टिप्पणी करते वक्त जरूरत होती है किसी वेबसाइट के संदर्भ की। ऐसे में अगर हम सीधे ही उसका पता यानी यूआरएल लिखकर टिप्पणी को पोस्ट कर देते हैं तो वह पता प्रकाशित तो हो जाता है, लेकिन उस पर क्लिक नहीं होता। अर्थात उस पर हायपरलिंक नहीं होता। इस कारण उस वेबपते पर जाना काफी परेशानी भरा होता है, क्योंकि उसे कॉपी कर नई विंडो में पेस्ट करना होता है। इस परेशानी का हल नीचे मौजूद है। इसके अलावा अगर आप टिप्पणी में किसी शब्द को बोल्ड (गहरे रंग का) या इटेलिक (थोड़ा झूलता हुआ) बनाना चाहते हैं तो उसका तरीका भी आसान सा है। जानते हैं यही तरीका.. (इसे चंदौली (उत्तर प्रदेश) के हिमांशु जी के आग्रह पर प्रस्तुत किया जा रहा है।)

हायपरलिंक

किसी शब्द या शब्द समूह पर लिंक लगान के लिए आप नीचे दिए गए टैग का इस्तेमाल कर सकते हैं-

<a href="आपके लिंक वाली वेबसाइट का पता">इस पर क्लिक कीजिए</a>


यह टिप्पणी प्रकाशित होने के बाद कुछ ऐसा दिखेगा-

इस पर क्लिक कीजिए


इसे और विस्तार से समझते हैं। मान लीजिए आपका कमेंट है-

आपने बहुत अच्छा लिखा.. पोस्ट में आपने पूछा है कि हिन्दी में लिखने वाला विजेट साइडबार में कैसे लगाएं। इसे पाने के लिए आप इस पते पर http://tips-hindi.blogspot.com/2008/11/hindi.html क्लिक कर सकते हैं।

अब अगर आप इसे कुछ इस तरह लिखेंगे-

आपने बहुत अच्छा लिखा.. पोस्ट में आपने पूछा है कि हिन्दी में लिखने वाला विजेट साइडबार में कैसे लगाएं। इसे पाने के लिए आप <a href="http://tips-hindi.blogspot.com/2008/11/hindi.html ">इस पते पर </a> क्लिक कर सकते हैं।


तो यह आपको कुछ इस तरह से दिखेगा-

आपने बहुत अच्छा लिखा.. पोस्ट में आपने पूछा है कि हिन्दी में लिखने वाला विजेट साइडबार में कैसे लगाएं। इसे पाने के लिए आप इस पते पर क्लिक कर सकते हैं।



बोल्ड और इटेलिक

किसी शब्द या शब्द समूह को बोल्ड करने के टैग <b>आपका शब्द समूह</b> हैं। इसी तरह इटैलिक करने के टैग <i>आपका शब्द समहू</i> हैं। नमूना देखिए-

अगर आप लिखेंगे-

<i>आपने बहुत अच्छा लिखा</i>.. पोस्ट में आपने पूछा है कि <b>हिन्दी में लिखने वाला विजेट</b> साइडबार में कैसे लगाएं। इसे पाने के लिए आप <a href="http://tips-hindi.blogspot.com/2008/11/hindi.html ">इस पते पर </a> क्लिक कर सकते हैं।


तो यह टिप्पणी में कुछ ऐसा दिखेगा-

आपने बहुत अच्छा लिखा.. पोस्ट में आपने पूछा है कि हिन्दी में लिखने वाला विजेट साइडबार में कैसे लगाएं। इसे पाने के लिए आप इस पते पर क्लिक कर सकते हैं।


याद रखें हर ओपनिंग टैग के साथ क्लोजिंग टैग जरूर लगाएं। जैसे <b> ओपनिंग टैग है तो </b> इसका क्लोजिंग टैग होगा।

नोटः- ब्लॉगर साथियों से अनुरोध है कि टिप्पणियों में हायपरलिंक केवल उसी अवस्था में दें, जब वहां उनके संदर्भ की जरूरत हो। किसी वेबसाइट के प्रचार के लिए ऐसा करना नैतिक नहीं कहा जा सकता।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Wednesday, November 19

ब्लॉग को कस्टम डोमेन पर ले जाएं

यह पोस्ट उन लोगों के काम की है, जो अपने ब्लॉगर ब्लॉग के पते में blogspot पसंद नहीं करते। वे चाहते हैं कि उनका ब्लॉग उनके मनचाहे पते पर संचालित हो, जैसे www.myblogname.com .. इसे कस्टम डोमेन कहा जाता है और आप चाहें तो अपने वर्तमान ब्लॉग को आसानी से मनचाहे पते पर ले जा सकते हैं। इसमें खर्च भी ज्यादा नहीं है (करीब 500 रुपए)। वैसे तो आप किसी भी डोमेन सेलर से मनचाहा उपलब्ध डोमेन खरीद सकते हैं, लेकिन अगर इसके लिए आप ब्लॉगर को संचालित करने वाली गूगल की ही मदद लें तो आसानी रहती है। यहां आपको CNAME डायरेक्टरी अलग से तैयार नहीं करनी पड़ती। तो अगर आप हैं तैयार तो जरा इस वीडियो को देखिए और आप समझ जाएंगे कि आपको कस्टम डोमेन पाने के लिए क्या करना है -




नोट- आपको डोमेन नेम के बदले मुद्रा का भुगतान करना होता है, इसलिए कोई भी निर्णय सोच समझ कर ही लें।



क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

आपके ब्लॉग की प्राइवेसी (Video Tutorial)

आपका ब्लॉग आखिर आपकी ही सम्पत्ति है। चाहें जिसे पढ़ने दें और चाहें जिसे नहीं। आपकी मर्जी नहीं हो तो इसे कोई नहीं देख सकता। परिंदा (मैं सर्च इंजन की बात कर रहा हूं) भी पर नहीं मार सकता। मसलन आप अपने ब्लॉग की गोपनीयता को अपनी मर्जी से ही सैट कर सकते हैं। तरीका मैं अपनी इस पोस्ट में भी बता चुका हूं, लेकिन अगर आप इसे विस्तार से जानना चाहते हैं तो ब्लॉगर सहायता समूह के इस वीडियो की मदद ले सकते हैं-





क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

मोबाइल से ब्लॉगिंग (Video Tutorial)

अगर आप अपने मोबाइल फोन से खींची गई फोटो, एमएमएस या किसी टैक्स्ट को ब्लॉग पर सीधे ही पोस्ट करना चाहते हैं तो उस फाइल को go@blogger.com पर ई-मेल या एमएमएस के रूप में भेज दें। यह एक नए ब्लॉग पर पोस्ट कर दिया जाएगा और उसका पता आपको एसएमएस पर मिल जाएगा। उसके बाद अपने ब्लॉग को क्लेम भी कर सकते हैं। तरीका और विस्तार से जानना चाहते हैं तो ब्लॉगर सहायता समूह का यह वीडियो देखें-





क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

पसंदीदा चिट्ठों की ब्लॉग लिस्ट बनाएं (Video Tutorial)

अपने मनपसंद चिट्ठों को अपने ही ब्लॉग पर पढ़ने के तरीकों के बारे में तो आप इस पोस्ट में पढ़ ही चुके हैं। अगर आप ब्लॉग लिस्ट तैयार करने का तरीका और भी आसानी से समझना चाहते हैं तो आपके लिए ब्लॉगर सहायता समूह का यह वीडियो हाजिर है-





क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

ब्लॉग पर पॉडकास्ट तैयार करें (Video Tutorial)

पॉडकास्ट का अर्थ है अपने ब्लॉग पर किसी पोस्ट में कोई मीडिया फाइल (ऑडियो/वीडियो) आदि डालना जिसे पाठक ब्लॉग पर आकर अथवा आरएसएस फीड द्वारा देख/सुन सकें। अगर आप भी ब्लॉगर ब्लॉग को पॉडकास्टिंग के लिए इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो इसकी व्यवस्था भी यहां मौजूद है। तरीका जानने के लिए ब्लॉगर सहायता समूह का यह वीडियो देखें-





क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

ब्लॉग पर वीडियो अपलोड करें (Video Tutorial)

अगर आपके पास अपना कोई वीडियो है, जिसे आप अपने पाठकों के साथ शेयर करना चाहते हैं या यूट्यूब जैसी वेबसाइट के वीडियो को अपने ब्लॉग पर दिखना चाहते हैं तो इसका तरीका एकदम आसान है। ब्लॉगर सहायता समूह का यह वीडियो देखें और ब्लॉग पर वीडियो अपलोड करना सीखें-




क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

गूगल गेजेट जोड़ें (Video Tutorial)

आप गूगल गेजेट का उपयोग कर अपने ब्लॉगर ब्लॉग पर कई तरह के शानदार गेजेट या विजेट (जैसे फोटो एल्बम, कैलेंडर आदि) चुटकियों में जोड़ सकते हैं। अगर आपको इसका तरीका नहीं पता, तो ब्लॉगर सहायता समूह का यह वीडियो आपकी मदद कर सकता है-




क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

ब्लॉगर पर ब्लॉग कैसे बनाएं (Video Tutorial)

ब्लॉग जगत में कदम रखने वाले कई नए साथी सवाल पूछते हैं कि ब्लॉगर पर नया ब्लॉग कैसे बनाया जाए। यह बिल्कुल साधारण सी प्रक्रिया है और इसे 1 मिनट 59 सेकंड के इस वीडियो के जरिए आसानी से समझा जा सकता है। ब्लॉगर के सहायता समूह ने कुछ वीडियो तैयार किए हैं और उन्हीं को यहां Video Tutorial सिरीज के रूप में पेश किया जा रहा है।





क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Tuesday, November 18

क्या चिट्ठाजगत बेईमान है?


अपडेट- चिट्ठाजगत सेवा दल की टिप्पणी मिलने के बाद हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने संबंधित शिकायती चिट्ठी प्रशासक मंडली की भेज दी है। जवाब की प्रतीक्षा है..

अपडेट- चिट्ठाजगत ने त्वरित कार्रवाई करते हुए इस तकनीकी खामी को दुरुस्त कर दिया है। इसके लिए चिट्ठाजगत का आभार। देखिए .. बेईमान नहीं है चिट्ठाजगत..


कुन्नू जी ने अपनी पोस्ट चिट्ठाजगत VS ब्लोगवानी - कौन आगे कौन पीछे .. में साबित कर दिया है कि चिट्ठाजगत ब्लॉगवाणी से कितना आगे है। उन्होंने आंकड़ों का गजब का इस्तेमाल किया है। आज मैं आंकड़ों से यह साबित करने जा रहा हूं कि चिट्ठाजगत कितना पक्षपाती है? या यूं कहें कि उसके रेंकिंग सिस्टम में कुछ गंभीर खामियां हैं?

सबसे पहले यह जान लें कि चिट्ठाजगत की रेंकिंग क्या है और इसका निर्धारण किस तरह से होता है। इसके लिए आप यह लेख पढ़कर फिर से यहां आइए। अब आप समझ चुके होंगे कि चिट्ठाजगत पर अगर रेंकिंग सुधारनी है तो हवालों का कितना महत्व है। हवाले- मतलब दूसरे हिन्दी ब्लॉगर ने कितनी बार आपकी पोस्ट का लिंक अपनी पोस्ट में दिया है।

अब आप खुद चिट्ठाजगत का पक्षपात देखिए।

"ईर्ष्योत्पादक" लेख पर जाइए। इस पर कई ब्लॉग पोस्ट का जिक्र है। (आभार गिरीश बिल्लोरे जी का, जिन्होंने हिन्दी ब्लॉग टिप्स के लेख क्या आपके ब्लॉग का वक्त 'खराब' है? को बेहतरीन माना है।) अब आप जहा चिट्ठाजगत पर हिन्दी ब्लॉग टिप्स के हवाले देखिए। "ईर्ष्योत्पादक" का कहीं कोई जिक्र नहीं हैं।



मेरे प्यारे साथियों अंकित जी और कुन्नू जी के (और शेष अन्य के भी) हवालों में हालांकि इसका जिक्र है।


कुन्नू जी की चिट्ठाजगत रिपोर्ट




अंकित जी की चिट्ठाजगत रिपोर्ट

अगर आप ऊपर अंकित जी के हवालों को देखेंगे तो सभी पोस्ट में हिन्दी ब्लॉग टिप्स को भी लिंक किया गया है, लेकिन इस नामुराद चिट्ठाजगत ने हिन्दी ब्लॉग टिप्स के साथ पक्षपात किया है और उसे एक भी हवाला नहीं दिया है। मिसाल यहां देखिए-

मैं कुन्नू सिंह के 'कुन्नू ब्लॉग से अपना ताल्लुक नहीं बना पाता

"ईर्ष्योत्पादक"

ब्लॉग्गिंग बनी बवाल-ए-जान

पिछले कुछ दिनों में हिन्दी ब्लॉग टिप्स को रवि रतलामी जी जैसे महान ब्लॉगरों समेत कई हवाले मिले हैं (चिट्ठाचर्चा में भी कई बार), लेकिन चिट्ठाजगत इन हवालों को शुमार ही नहीं कर रहा है। हिन्दी ब्लॉग टिप्स को आखिरी हवाला 17 अक्टूबर को मिला था, लेकिन उसके बाद इसके साथ यह भेदभाव हो रहा है। कारण चाहे तकनीकी खामी हो या कुछ और, लेकिन मेरे जैसे कितने ही हिन्दी ब्लॉगर ऐसे होंगे, जिनके साथ ऐसा अन्याय हो रहा होगा और उनकी रेंकिंग लगातार कम होती जा रही होगी। 17 अक्टूबर के बाद से लगातार पोस्ट करते रहने के बावजूद मैं अपनी चिट्ठाजगत रेंक (98) को बरकरार नहीं रख पाया हूं और अब मुझे यही लगता है कि हिन्दी ब्लॉग टिप्स चिट्ठाजगत की रेंकिंग में लगातार पीछे होता जाएगा, क्योंकि इसके हवालों की गणना नहीं हो रही है।

चिट्ठाजगत पर इस खामी को समझने की मैंने कोशिश भी की, लेकिन वहां ऐसा कोई तरीका नहीं है, जिससे आप इसे सुधार सकें। और न ही ऐसा कोई जरिया, जहां आप अपनी वेदना या शिकायत दर्ज करा सकते हों।

ऐसा मत समझिए कि यह पोस्ट मैं किसी हताशा या झुंझलाहट के कारण लिख रहा हूं। लेकिन अगर कहीं नाइंसाफी हो रही हो, तो उसके खिलाफ मुंह तो खोलना ही चाहिए। वैसे हिन्दी ब्लॉग टिप्स के पास अपने प्रशंसक परिवार का पूरा समर्थन है और उसे इसके अलावा और कुछ नहीं चाहिए।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Monday, November 17

हिन्दी ब्लॉग जगत की ताजा प्रविष्ठियां

क्या आप हिन्दी ब्लॉग जगत में हो रही हर पोस्ट से बाखबर रहना चाहते हैं? क्या आप हिन्दी ब्लॉग जगत की ताजा प्रविष्ठियां पढ़ने के लिए चिट्ठाजगत, ब्लॉगवाणी या नारद जैसे संकलकों का इस्तेमाल करते हैं। अब आप हिन्दी ब्लॉग जगत की तमाम ताजा प्रविष्ठियां अपने ब्लॉग की साइडबार में ही पा सकते हैं। हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने एक नया विजेट तैयार किया है, जिसे आप केवल एक बटन पर क्लिक कर अपने ब्लॉग के साथ जोड़ सकते हैं।

अपने ब्लॉग की साइडबार में ताजा ब्लॉग प्रविष्ठियां दिखाने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें।



इस बटन से आप दस नवीनतम पोस्ट अपनी साइडबार में दिखा सकते हैं, जिसे ब्लॉगवाणी की फीड से लिया गया है। अगर आप बीस प्रविष्ठियां दिखाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए बटन का इस्तेमाल करें।



क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Saturday, November 15

क्या आपके ब्लॉग का वक्त 'खराब' है?


जी नहीं, नाराज मत होइए। वक्त खराब हो आपके दुश्मनों के ब्लॉग का। मैं तो यह बात कर रहा था कि क्या आप भी इस समस्या से त्रस्त हैं कि आप पोस्ट करते आज हैं, तारीख आती है बीते हुए कल की। करते शाम 6 बजे हैं और वक्त आता है सुबह 10 बजे का। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि आपने ब्लॉगर को वक्त की सैटिंग में यह बताया ही नहीं है कि आप हिंदुस्तानी (या अपने देश) समय के अनुसार जीते हैं।

बस सैटिंग में थोड़ा सा फेरबदल कीजिए। इसे हिंदुस्तानी (या अपने देश के)वक्त के बारे में बताइए और उसके बाद आपको न तारीख संबंधी कोई परेशानी होगी और न ही वक्त संबंधी। टाइम जोन सैटिंग बदलने का तरीका यहां है-

1. ब्लॉग की Settings में जाइए।

2. Formatting ऑप्शन चुनिए।

3. Time Zone पर आइए और यहां (GMT+05:30) India Standard Time (या अपने देश का समय) ऑप्शन चुनिए। तरीका नीचे दी गई तस्वीर में और भी आसानी से समझ सकते हैं।



4. बदलाव को Save कर दीजिए।



अब आपको अपने ब्लॉग पर दिनांक और वक्त संबंधी कोई भी परेशानी नहीं आएगी।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Friday, November 14

'हिन्दी में लिखिए' विजेट और भी बेहतर

पिछले हफ्ते हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने पाठकों को ऐसा बटन उपलब्ध कराया था, जिसे दबाते ही हिन्दी में लिखने वाला विजेट अपने ब्लॉग की साइडबार में लाया जा सकता था। हिन्दी ब्लॉगर साथियों ने इसे बहुत सराहा। कुछ साथियों की मांग पर मैंने इसमें थोड़ा बदलाव किया है और इसके साथ दिखने वाला स्क्रॉलबार हटा दिया है। इससे यह न केवल अच्छा दिख रहा है, बल्कि यह सुविधाजनक भी हो गया है। क्या आप इसे अपने ब्लॉग पर लगाना चाहते हैं?

बस यह चुटकियों का काम है। अपनी साइडबार के अनुसार बक्सा चुनिए और उसके नीचे दिया गया बटन दबा दीजिए। अपने ब्लॉगर अकाउंट में लॉग-इन कीजिए और उसके बाद यह विजेट सीधा आपके ब्लॉग की साइडबार तक पहुंच जाएगा।
(अगर आप यह लेख ई-मेल या फीड रीडर के जरिए पढ़ रहे हैं तो इस बक्से और बटन को देखने के लिए आपको मूल पोस्ट पर आना होगा।)
















क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

जीमेल में वीडियो चैट सुविधा


गूगल ने अपनी ई-मेल सुविधा को अब और भी आकर्षक बना दिया है। अब आप जीमेल के इंटरफेस से ही अपने साथियों के साथ वीडियो चैट का मजा भी ले सकते हैं। इसके लिए आपके पास वेबकैम या माइक्रोफोन होना जरूरी है। अगर आप यह सुविधा अपने जीमेल में जोड़ना चाहते हैं तो आपको यह प्लग-इन डाउनलोड करना होगा।

इसके बाद यह इंटरनेट एक्सप्लोरर, फायरफॉक्स या गूगल क्रोम जैसे सभी ब्राउजर्स में काम करता है। इस सुविधा को विस्तार से स्पष्ट करने वाला वीडियो यहां है।



अगर आप इसके बारे में और विस्तार से जानना चाहते हैं तो ऑफिशियल गूगल ब्लॉग पढ़िए।


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

हिन्दी सर्च इंजन विजेट तैयार है

पिछली पोस्ट में आपको हिन्दी में टाइप कर गूगल से हिन्दी सामग्री खोजने वाले सर्च इंजन का डेमो दिखाया गया था। यह विजेट अब पूरी तरह से तैयार है और इसे आप अपने ब्लॉग की साइडबार में लगा सकते हैं। आपको केवल नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करना है। उसके बाद खुलने वाली विंडो में अपने ब्लॉगर अकाउंट में लॉग-इन करना है और उसके बाद यह विजेट सीधे ही आपके ब्लॉग पर पहुंच जाएगा।




आपके ब्लॉग की साइडबार में यह कुछ ऐसा दिखेगा-



( नोट-1 अगर यहां कोई बॉक्स नजर नहीं आ रहा है तो कृपया ऊपर दिख रही खाली जगह पर कर्सर लाइए और राइट क्लिक कर रिफ्रेश का बटन दबाइए।
नोट-2 अगर आप यह पोस्ट मेल या फीड रीडर के जरिए पढ़ रहे हैं तो इस बटन को पाने के लिए आपको मूल पोस्ट पर आना होगा।)


अगर आप केवल आपके ही ब्लॉग से सामग्री खोजने वाला सर्च इंजन अपने ब्लॉग पर लगाना चाहते हैं तो आप अपने ब्लॉग की जानकारी मुझे टिप्पणी में दे सकते हैं। आपके ब्लॉग के लिए खास सर्च इंजन का कोड आपके लिए हिन्दी ब्लॉग टिप्स तैयार करेगा।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

फोकट में वेबसाइट की मत सोचिए


उफ! यह क्या हुआ? कुन्नू जी की फ्री में बनी वेबसाइट हिन्दीमजा डॉट कॉम तो हैक हो गई। हिन्दी ब्लॉग जगत में तकनीकी क्षेत्र में शानदार काम कर रहे कुन्नू जी की 25 अगस्त, 2008 को एक पोस्ट पढ़ी थी। उन्होंने लिखा था कि उन्होंने बिना कोई रोकड़ा खर्च किए अपने डोमेन पर एक वेबसाइट बनाई है और इसे पाकर वे काफी खुश हैं।

इसके बाद उन्होंने हिन्दीमजा वेबसाइट पर काफी अच्छा काम किया। इसमें रजिस्टर करने के ऑप्शन डाले और पता नहीं क्या-क्या किया। पाठकों ने भी इसमें काफी दिलचस्पी दिखाई, लेकिन आज कुन्नू भाई फ्री में वेबसाइट बनाने पर अफसोस कर रहे होंगे। कारण जानना चाहते हैं- यह वेबसाइट हैक कर ली गई है। तुर्की की किसी साइबर ऑपरेशंस टीम द्वारा। पता नहीं कुन्नू भाई और पाठकों ने इस साइट पर अपने कितने वक्त का निवेश किया होगा। पता नहीं सारी सामग्री को कुन्नू भाई हैकर्स के हाथों से कब तक छुड़वा पाएंगे। साथ ही उनके कुन्नूब्लॉग पर जगह-जगह जो हिन्दीमजा के लिंक लगे हैं, वे भी उन्हें हटाने होंगे।

मेरी तो ब्लॉगर साथियों को यही सलाह है कि वे ब्लॉगर या वर्डप्रेस जैसे सम्माननीय सेवा प्रदाताओं के साथ उनकी शर्तों को पूरा करते हुए जुड़े रहें और अगर उन्हें अपने डोमेन पर आना है तो बाकायदा उसे खरीदें (इसे केवल 500 रुपए खर्च कर पाया जा सकता है)। वरना आप फोकट के माल की तलाश में वक्त यूं ही जाया करते रहेंगे।

अपडेट- हिन्दीमजा के हैक होने की जानकारी मिलते ही कुन्नू जी पूरी मुस्तैदी के साथ इसे वापस पाने में जुट गए हैं। उनके पास इस साइट का पूरा बैकअप है और उम्मीद है कि वे शीघ्र ही इसे फिर से पा लेंगे। पढ़िए उनकी पोस्ट- हिन्दीमाजा हैक हूवा तो डरने की जरूरत नही है

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Wednesday, November 12

हिन्दी में लिखने वाला सर्च इंजन आपके ब्लॉग पर

बहुत दिन से इस कोशिश में था कि ब्लॉग की साइडबार में लगाया जा सकने वाला एक ऐसा सर्च इंजन बनाऊं, जिसमें सीधे ही देवनागरी में टाइप कर सामग्री की खोज की जा सके। यह कोशिश काफी हद तक कामयाब हो गई है। (अब आप सोच रहे होंगे कि यह सर्च इंजन तो गूगल ने कब का पेश कर दिया, लेकिन मैं इसे आपके ब्लॉग की साइडबार में लगाने की बात कर रहा हूं।)आप इस सर्च इंजन में रोमन में जैसे कोई शब्द लिखेंगे, यह उसे देवनागरी में बदल देगा (गूगल ट्रांसलिटरेटर सुविधा को धन्यवाद) और आपकी सामग्री की तलाश पूरी हो जाएगी। प्रस्तावना ज्यादा लंबी नहीं, आप खुद इस सर्च इंजन को आजमाइए और गूगल पर मनपसंद सामग्री खोजिए।



( नोट-1 अगर यहां कोई बॉक्स नजर नहीं आ रहा है तो कृपया ऊपर दिख रही खाली जगह पर कर्सर लाइए और राइट क्लिक कर रिफ्रेश का बटन दबाइए।
नोट-2 अगर आप यह पोस्ट मेल या फीड रीडर के जरिए पढ़ रहे हैं तो इस सुविधा को देखने के लिए आपको मूल पोस्ट पर आना होगा।)


उम्मीद है कि आपको हिन्दी ब्लॉग टिप्स का यह प्रयोग पसंद आया होगा। आप चाहें तो इसे अपने ब्लॉग पर भी लगा सकते हैं (इसे आपके ब्लॉग पर लगाने की सुविधा वाला बटन अगली पोस्ट में दिया जाएगा)। और अब खुश होने की असली वजह का खुलासा। हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने इस सर्च इंजन को मनचाही वेबसाइट के मुताबिक कस्टमाइज करने का भी तरीका खोज लिया है। देखिए, नीचे दिया गया सर्च इंजन हिन्दी में टाइप करने की सुविधा से सजा है और केवल हिन्दी ब्लॉग टिप्स से ही नतीजे पेश करता है।



( नोट-1 अगर यहां कोई बॉक्स नजर नहीं आ रहा है तो कृपया ऊपर दिख रही खाली जगह पर कर्सर लाइए और राइट क्लिक कर रिफ्रेश का बटन दबाइए।)

इस तकनीक का इस्तेमाल कर आप भी अपने ब्लॉग का हिन्दी में खोजने वाला सर्च इंजन तैयार कर सकते हैं। हिन्दी ब्लॉग टिप्स आपके लिए यह काम करने को तैयार है। आप बस अपने ब्लॉग का पता लिखकर टिप्पणी के रूप में जानकारी छोड़ दीजिए। फुरसत मिलते ही आपको इसी पोस्ट के माध्यम से आपके ब्लॉग का तैयार कोड उपलब्ध करा दिया जाएगा।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Monday, November 10

अपने ब्लॉग पर पसंदीदा चिट्ठे पढ़िए

हिन्दी ब्लॉग संसार दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है। रोजाना हमें कोई न कोई ब्लॉग ऐसा मिलता है, जिसे हम पसंद करते हैं और चाहते हैं कि रोजाना पढ़ें। लेकिन फिर उसका पता भूल जाते हैं। तो क्यों नहीं हम कुछ ऐसा कर लें कि उसे सीधे ही अपने ब्लॉग से जोड़ लें और उसकी हर नई अपडेट से वाकिफ रहें। अबू धाबी से अल्पना वर्मा जी ने पूछा है कि फेवरेट ब्लॉग्स की रीसेंट पोस्ट्स, नोटिस/लिंक को अपने ब्लॉग पर ही देखने के लिए क्या करना चाहिए? यह मसला अन्य कई ब्लॉगर साथियों के साथ भी है। चलिए जानते हैं ऐसे ही कुछ तरीके, जिनसे आप अपने फेवरेट चिट्ठों को अपने ब्लॉग के साथ जोड़ सकते हैं।

नुस्खा-1.. ब्लॉग लिस्ट जोड़िए

यह आपके ब्लॉग की साइडबार में प्रदर्शित होने वाला छोटा सा गेजेट है और यह ब्लॉगर के डिफाल्ट गेजेट्स (पेज एलिमेंट्स) में मौजूद है। इसमें अपने फेवरेट ब्लॉग्स की सूची शामिल करने के लिए आप नीचे दिया गया तरीका अपना सकते हैं।

1. ब्लॉग के Layout में जाइए।

2.Add a Gadget पर क्लिक कीजिए।



3.खुलने वाली विंडो में ब्लॉग लिस्ट ऑप्शन चुनिए।



4. दिए गए विकल्पों को चुनने के बाद ADD TO LIST पर क्लिक कीजिए।

5. अब यहां पंसदीदा चिट्ठों के यूआरएल जोड़ते रहिए। ब्लॉग पर ये अपनी नवीनतम प्रविष्ठियों के साथ दिखाई देंगे और आप इनकी हर नई पोस्ट की जानकारी अपने ब्लॉग पर ही पा सकेंगे।

6. आप चाहें तो उन ब्लॉग्स को ब्लॉग लिस्ट में जगह दे सकते हैं, जिन्हें आप फोलो कर रहे हैं। किसी ब्लॉग के फोलोअर बनने का तरीका इस पोस्ट में दिया गया है।

नुस्खा-2.. फीड को जोड़िए



अगर आप किसी ब्लॉग को बहुत ज्यादा पसंद कर रहे हैं और चाहते हैं कि उस ब्लॉग की पांच नवीनतम प्रविष्ठियां आपके ब्लॉग पर दिखे, तो उसकी फीड को अपनी साइडबार में स्थान दे सकते हैं। इसका तरीका है-

1. Layout में जाइए और Add a Gadget पर क्लिक कीजिए।



2. खुलने वाली विंडो में Feed ऑप्शन चुनिए।



3. Feed URL में ध्यानपूर्वक यह भरें- http://आपका-मनपसंद-ब्लॉग.blogspot.com/atom.xml

4. अगली विंडो में आप दिखाई जाने वाली पोस्ट की संख्या निर्धारित कर सकते हैं। यह न्यूनतम 1 और अधिकतम 5 है।

5. परिवर्तन को सेव करने के बाद आपके पसंदीदा ब्लॉग की नवीनतम प्रविष्ठियां आपके ब्लॉग पर दिखने लगेंगी।

नुस्खा-3.. फोलोअर बनिए


अगर आप अपने पसंदीदा ब्लॉग को अपने डेशबोर्ड में पढ़ना चाहते हैं तो उस ब्लॉग के फोलोअर बन जाइए। फोलोअर बनने का तरीका इस पोस्ट में दिया गया है। ज्यादातर हिन्दी ब्लॉगर इस विकल्प को ऑन कर चुके हैं और अगर आपने अभी तक यह विकल्प ब्लॉग पर नहीं लगाया है तो इसे तुरंत लगा लीजिए। कहीं आपके पाठक आपकी पोस्ट पढ़ने से वंचित नहीं रह जाएं।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Friday, November 7

ब्लॉग पर पर्सनल कॉन्टेक्ट फॉर्म (Contactify)


ब्लॉग दो-तरफा संपर्क का साधन है। आप पोस्ट के जरिए पाठकों के साथ संवाद करते हैं औऱ पाठक टिप्पणियों के जरिए अपनी पसंद-नापसंद आप तक पहुंचा सकते हैं। लेकिन कई बार हो सकता है कि पाठक आपके साथ निजी तौर पर कुछ जानकारी शेयर करना चाहता हो। या ऐसी बात आपसे करना चाह रहा हो, जो दूसरे पाठकों के काम की नहीं। ऐसे में आप अपने ब्लॉग पर पर्सनल कॉन्टेक्ट फॉर्म लगाकर उन पाठकों की राय अपने मेल-बॉक्स में मंगा सकते हैं और साथ ही अपने ब्लॉग को प्रोफेशनल लुक भी दे सकते हैं।

मुझसे संपर्क करने के लिए पर्सनल कॉन्टेक्ट फॉर्म यहां है। इसे मैंने कॉन्टेक्टिफाई डॉट कॉम साइट की मदद से बनाया है। यह पोस्ट मैं दीपकजी के आग्रह पर लिख रहा हूं, जिन्होंने मुझसे ऐसा फॉर्म तैयार करने में मदद मांगी है। इसे बनाना काफी आसान है।
कॉन्टेक्टिफाई डॉट कॉम साइट पर जाइए। Super Fast Sign-Up Box में सूचनाएं भरकर अकाउंट बनाइए। मेल पता वह दीजिए, जहां आप पर्सनल संदेश मंगाना चाहते हैं। आपकी मेल के वेरिफिकेशन के बाद आपको इस तरह का एक लिंक उपलब्ध करा दिया जाएगा- www.contactify.com/yourlink number
अब इसे अपने ब्लॉग पर हाइपरलिंक की मदद से कहीं भी लगा सकते हैं। जैसे ही पाठक इस पर क्लिक करेंगे, नीचे दिए गए नमूने के अनुसार फॉर्म खुलेगा।

Contactify Form

पाठक अपनी सूचनाएं भरकर आपको भेजेंगे तो समस्त सूचनाएं आपके मेल-बॉक्स तक पहुंच जाएंगी। और सबसे अच्छी बात, आपका मेल पता पूरी तरह से गोपनीय ही रहेगा..

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Wednesday, November 5

आपके शहर के ब्लॉग के क्या हाल हैं?

जी हाल बहुत बुरे हैं? आज सुबह मैंने कुछ प्रमुख भारतीय शहरों के "आधिकारिक ब्लॉग" पर अध्ययन में अपने तीन घंटे बिगाड़े हैं। नतीजा सिफर ही रहा है। यह अध्ययन आपके सामने पेश कर रहा हूं। नतीजा भले ही मनमाफिक नहीं रहा हो, लेकिन इसमें मनोरंजन खूब हुआ है। आप भी मजे लीजिए-


अगर आप शहर के "आधिकारिक ब्लॉग" का मतलब नहीं समझे तो बता दूं कि मैंने आधिकारिक ब्लॉग का दर्जा उस ब्लॉग को दिया है, जो ब्लॉगर पर उस शहर के नाम पर रजिस्टर है। जैसे- मुंबई का आधिकारिक ब्लॉग हुआ- http://mumbai.blogspot.com और दिल्ली का हुआ http://delhi.blogspot.com. अब तो आप समझ ही गए होंगे। आइए जानते हैं कुछ प्रमुख शहरों के "आधिकारिक ब्लॉग" के हाल-

मुंबई

http://mumbai.blogspot.com/

मुंबई जितनी व्यस्त है, यह ब्लॉग उतना ही ठाला है। मुंबई रोवर शीर्षक वाला यह बेचारा ब्लॉग एक अदनी सी पोस्ट को भी तरस गया है। रोहनजी ने इसे मार्च 2002 में बनाया था, लेकिन करीब साढ़े सात साल की अवधि में एक भी पोस्ट नहीं की है। वाह रोहनजी, ब्लॉगर पर शुरुआत में आपको इतना अच्छा पता क्या मिला, आपने तो बेचारे मुंबईवासियों का हक ही छीन लिया। एक वेलकम पोस्ट तो कर देते।

http://bombay.blogspot.com/

मैंने सोचा कि बॉम्बे ब्लॉग पर ही कुछ तलाशूं। गया तो यहां भी निराशा ही हाथ लगी। आठ सितंबर, 2003 को विनोदजी ने लिखा कि यह उनकी पहली पोस्ट है। इसके बाद पांच साल के अंतराल में एक भी पोस्ट नहीं दिखाई दी। ब्लॉग के विवरण में वादे करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी गई है। लेकिन ब्लॉग पर कुछ भी नजर नहीं आता।

दिल्ली

http://delhi.blogspot.com/

पुनीतजी ने पते में दिल्ली शब्द लिया, लेकिन ब्लॉग को केवल तकनीकी जानकारी बांटने में ही इस्तेमाल करने की सोची। उन्होंने 2006 में कुल जमा दो पोस्ट की है। मेरी यही सलाह है कि आप इन प्रविष्ठियों को नहीं पढ़ें, क्योंकि इनमें पढ़ने लायक कुछ है ही नहीं।

http://newdelhi.blogspot.com/

फिर मैंने सोचा कि क्यों नहीं नई दिल्ली को आजमाया जाए। इस ब्लॉग पर रणधीरजी ने सितंबर 2007 में एक प्रविष्ठि लिखी है। आइए भारत की राजधानी नई दिल्ली की बात करें। पर अफसोस, इसके बाद वे इस ब्लॉग पर कोई बात नहीं कर पाए। हां, इस ब्लॉग के विवरण में भी दिल्ली को लेकर कई वादे किए गए हैं।

http://new-delhi.blogspot.com/

दिल्ली पर एक और ब्लॉग देखिए। जॉयजी ने इस ब्लॉग की अक्टूबर 2004 के बाद कोई सुध नहीं ली है। कुछ तो लिख देते जनाब। या फिर यह टाइटल किसी ऐसे दिल्ली प्रेमी के नाम छोड़ते, जो इस पर दिल्ली के दिल को बयां कर पाता।

कोलकाता

http://kolkata.blogspot.com/

डॉ. दीपक भी ऐसे ही आलसी ब्लॉगर निकले, जिन्होंने ब्लॉग तो बना लिया, लेकिन एक पोस्ट के बाद उसकी कभी सुध नहीं ली। यह पोस्ट अब साढ़े छह साल की हो चुकी है। इस ब्लॉग के विवरण में भी यही मंशा जताई गई है कि यह ब्लॉग कोलकाता का सच्चा प्रतिनिधित्व करेगा, लेकिन .. अब मैं क्या लिखूं।

चेन्नई

http://chennai.blogspot.com/

अबाउट चेन्नई शीर्षक वाला यह ब्लॉग पिछले छह साल से अंडर कंस्ट्रक्शन है। ब्लॉग लिखने वाले कृष्णाजी इसके बारे में अब तक तो शायद सबकुछ भूल चुके होंगे। शायद यूजर नेम और पासवर्ड भी। याद हों तो प्लीज इसे कंस्ट्रक्ट कर दीजिए।

बैंगलोर

http://bangalore.blogspot.com/

इस खाली ब्लॉग के स्वामी नीलेशजी हैं और लगता है कि इसे उन्होंने आर्चिटेक्चर फर्म के इस्तेमाल के लिए अगस्त, 2002 में बनाया था। लेकिन बेचारा यह ब्लॉग भी किसी पोस्ट के लिए तरस रहा है।

चंडीगढ़

http://chandigarh.blogspot.com/

सीएचडी जी ने इस ब्लॉग का शीर्षक तो रीड दिस.. रखा है, लेकिन इस पर कुछ है ही नहीं जिसे पढ़ा जाए। यहां तो कोई काला अक्षर भी नहीं, बस सफेद पर्दा ही है जी। अब इसे क्या पढ़ें। यह ब्लॉग भी अक्टूबर, 2002 से वीरानगी में खो रहा है।

लखनऊ

http://lucknow.blogspot.com/

भारतीय शहरों में मुझे यह ब्लॉग सबसे सीनियर लगा। यह नवंबर 2000 से अस्तित्व में है, पर एन जी (इसके लेखक या शायद लेखिका) कुछ लिख ही नहीं पाए। खैर जो भी हो, नवाबों के शहर का ब्लॉग वरिष्ठता में तो अव्वल निकला।

पटना

http://patna.blogspot.com/

पटना शहर का यह ब्लॉग डायनेमिक इंडिया को दिखाने का छलावा देता है, लेकिन इसके खजाने में भी सिर्फ एक ही पोस्ट है। यह पोस्ट नवंबर 2004 में लिखी गई है। उसके बाद लेखक महोदय इंडियावन गायब हो गए। वापस आइए और गतिशील भारत को पाठकों तक पहुंचाइए।

पुणे

http://pune.blogspot.com/

केदारजी के जोश को सलाम, जो उन्होंने जून 2002 में इस ब्लॉग के जरिए पुणे को विश्वपटल पर लाने की सोची। आप इसके आगे भी बढ़ते तो ज्यादा अच्छा लगता। पर जी, जब बड़े-बड़े शहरों वाले ब्लॉगर ही सो रहे हैं तो इनसे क्या उम्मीद करें। जो हो रहा है होने दीजिए।

जयपुर

http://jaipur.blogspot.com/

आखिर में मेरे अपने शहर जयपुर के 'आधिकारिक ब्लॉग' की बात। यह ब्लॉग धर्मेन्द्रजी ने लिखा है और इसकी इकलौती पोस्ट 29 मार्च 2004 को प्रकाशित हुई है। यह ब्लॉग ऊपर बताए गए सभी ब्लॉग्स से आगे हैं। बेहतर भी है। या यूं कहें कि अंधों में काना राजा। जी हां, इसकी इकलौती पोस्ट में समस्त जानकारी जयपुर को लेकर दी गई है। धर्मेंद्रजी ने दूसरे ब्लॉगर्स की तुलना में एक कदम तो आगे बढ़ाया।

अब फैसला आप पर है। अगर आपके शहर का ब्लॉग ऊपर नहीं है, तो उसे ढूंढिए और अगर उसमें कुछ उल्लेखनीय हो तो यहां बताइए। उसे आपके नाम के साथ जोड़ा जाएगा। वैसे मुझे खुशी इस बात की है कि मैंने अपने समय की बर्बादी का बदला आपका समय बर्बाद कर ले ही लिया। इसके लिए प्लीज मुझे माफ कर दीजिए....

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Saturday, November 1

'हिन्दी में लिखिए' बटन तैयार है

हिन्दी ब्लॉग टिप्स हाजिर है उस बहुप्रतीक्षित बटन के साथ, जिसे दबाते ही हिन्दी में लिखने का औजार (गूगल ट्रांसलिटरेटर)आपके ब्लॉगर ब्लॉग की साइडबार तक पहुंच जाएगा। इसके लिए न तो आपको किसी कोड को कॉपी-पेस्ट करना होगा और न ही दूसरा कोई झंझट आपको परेशान करेगा। बस अपनी इच्छानुसार साइज वाला बॉक्स चुनिए। उसके नीचे दिया गया बटन दबाइए और ब्लॉगर अकाउंट में लॉग-इन कर इस विजेट को अपनी साइडबार में पाइए।
















क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

हिन्दी टाइपिंग सुविधा साइडबार में

बहुत से साथी बार-बार पूछ रहे थे कि साइडबार में हिन्दी में लिखने वाला औज़ार कैसे लगाया जा सकता है। हाल ही अमिताभ भूषणजी ने भी यही सवाल किया था। कुछ प्रयास के बाद आखिर मुझे ऐसा बटन तैयार करने में कामयाबी मिल ही गई, जिसे क्लिक कर आप सीधे ही अपने ब्लॉग की साइडबार में हिन्दी में लिखने वाला बक्सा लगा सकते हैं। इसके लिए न तो आपको किसी कोड को कॉपी-पेस्ट करना है और न ही अपनी टेम्पलेट के कोड के साथ छेड़छाड़ करनी है। बस नीचे दिया गया बटन दबाइए और अपने ब्लॉगर अकाउंट में लॉग-इन कर हिन्दी ब्लॉग टिप्स की इस खास विजेट को जोड़ लीजिए।


बटन तक जाने के लिए यहां क्लिक करें...


वैसे आप चाहें तो साइडबार में इस कोड को कॉपी कर एड ए गेजेट में एचटीएमएल/जावास्क्रिप्ट में पेस्ट कर एक नया विजेट भी पा सकते हैं-

<script src="http://www.google.com/jsapi" type="text/javascript"></script>
<script type="text/javascript">
google.load("elements", "1", {
packages: "transliteration"
});
function onLoad() {
var options = {
sourceLanguage:
google.elements.transliteration.LanguageCode.ENGLISH,
destinationLanguage:
google.elements.transliteration.LanguageCode.HINDI,
shortcutKey: 'ctrl+g',
transliterationEnabled: true
};
// Create an instance on TransliterationControl with the required
// options.
var control =
new google.elements.transliteration.TransliterationControl(options);

// Enable transliteration in the textbox with id
// 'transliterateTextarea'.
control.makeTransliteratable(['transliterateTextarea']);
}
google.setOnLoadCallback(onLoad);
</script>
<div align="left"><textarea id="transliterateTextarea" style="width:100%;height:100px"></textarea></div><p align="right"><a style="font-size:60%;" href="http://tips-hindi.blogspot.com/2008/11/write-in-hindi-widget.html">विजेट आपके ब्लॉग पर</a></p>


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!